शाश्वत सुख का क्या अर्थ है | शाश्वत सुख का आनंद | Eternal Happiness in hindi

शाश्वत सुख का क्या अर्थ है

शाश्वत सुख का क्या अर्थ है- आपने सुख के बारे में तो बहुत कुछ जानते है। लेकिन शाश्वत सुख क्या है? शाश्वत सुख किसे कहते है। इसके बारे में आज बात करेंगे। शाश्वत का अर्थ है जो सदा रहे। जो कभी ना खत्म हो या वो चीज़ जो कभी मिट सके ना कोई मिटा ना … Read more

हनुमान जी के अनमोल वचन | Jai Shri Hanuman quotes in Hindi

हनुमान जी के अनमोल वचन

हनुमान जी के अनमोल वचन -प्रिये भक्तो! जैसा कि आप सभी को पता है कि श्री हनुमान जी, प्रभु श्रीराम जी के अनन्य भक्त है जिनका नाम मात्र लेने से ही व्यक्ति का जीवन सही दिशा की तरफ बढने लगता है हनुमान जी के अनमोल वचन उनके भक्तों को शक्ति प्रदान करते हैं ऐसे ही … Read more

Spiritual story in hindi | छोटी कहानी शिक्षा देने वाली | आध्यात्मिक कहानियाँ हिंदी

Spiritual story in hindi

Spiritual story in hindi – आजकल के समय में प्रत्येक व्यक्ति धन कमाने के लिए बहुत संघर्ष करता है। लोगों को लूटता है।तमाम झूठ बोलता है। चोरी रिश्वतखोरी आदि करता है। उसे यह तक नहीं पता होता कि इन विकारों को करने से व्यक्ति महापाप का भागी बनता है। जिस प्रकार मनुष्य को जीवित रहने … Read more

सफल होने का सबसे आसान तरीका | The easiest way to succeed in hindi

सफल होने का सबसे आसान तरीका

सफल होने का सबसे आसान तरीका- सफल होने का सबसे आसान तरीका है निरंतर मेहनत और अनुशासन। चाहे कितनी भी कठिनाई क्यों न आए, रोज़ छोटे-छोटे कदम बढ़ाकर आगे बढ़ते रहना चाहिए। सफलता प्राप्त करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण है कि आप बिना रुके लगातार प्रयास करते रहें। आइये पढ़ते हैं, किस तरह मेहनत करके … Read more

प्राण शक्ति क्या है | कैसे जागृत करें प्राण शक्ति | How to awaken life force in hindi

प्राण शक्ति

प्राण शक्ति हमारे शरीर और मानसिक आरोग्य का आधार हमारी जीवन शक्ति है। वह प्राण शक्ति भी कहलाती है। हमारे जीवन जीने के ढंग के मुताबिक हमारी प्राण शक्ति का हस्र या विकास होता है। हमारे प्राचीन ऋषि मुनियों ने योग दृष्टि से अंतर दृष्टि से जीवन का निरीक्षण करके जीवन शक्ति के रहस्य खोज … Read more

गीता के अनुसार सबसे बड़ा पुण्य क्या है | What is the greatest virtue according to Geeta in hindi

श्रीमद्भगवद्गीता के अनुसार पुण्य और पाप क्या है

What is the greatest virtue according to Geeta– बूंद बूंद से सरिता और सरोवर बनते हैं, ऐसे ही छोटे-छोटे पुण्य महापुण्य बनते हैं। छोटे-छोटे सद्गुण समय पाकर मनुष्य में ऐसी महानता लाते हैं कि व्यक्ति बंधन और मुक्ति के निज स्वरूप को निहार कर शिव स्वरूप हो जाता है। किसी भी काम का फल शाश्वत … Read more

एक शिक्षक की अंतिम प्रेरणा | सेवा का सच्चा अर्थ | सफलता की प्रेरक कहानी | Inspirational success story in hindi

एक शिक्षक की अंतिम प्रेरणा

एक शिक्षक की अंतिम प्रेरणा -हमारे समय में एक प्रभाकर सर हुआ करते थे वह अपने विद्यार्थियों के बीच बहुत लोकप्रोय अध्यापक थे उनकी कक्षाएं हमेशा ज्ञान और प्रेरणा से भरी होती थीं। उन्होंने न केवल विषय को समझाने में महारत हासिल की थी, बल्कि विद्यार्थियों को जीवन के महत्वपूर्ण मूल्य भी सिखाए। अभी कुछ … Read more

धर्म और समाज: स्वामी विवेकानंद का दृष्टिकोण | Religion and Society: The View of Swami Vivekananda in hindi

धर्म और समाज: स्वामी विवेकानंद का दृष्टिकोण

धर्म और समाज: स्वामी विवेकानंद का दृष्टिकोण -एक समय की बात है किसी सभा में स्वामी विवेकानन्द अपने अनुयाइयों को भाषण दे रहे थे। तभी किसी भक्त को समाज और धर्म के बारे में जाने की जिज्ञासा हुई। आइए पढ़ते हैं- स्वामी जी ने किस प्रकार धर्म और समाज की बहुत ही सुंदर व्याख्या की … Read more

श्रीमद्भगवद्गीता के अनुसार पुण्य और पाप क्या है | What is the greatest virtue and sin according to Geeta in hindi

श्रीमद्भगवद्गीता के अनुसार पुण्य और पाप

श्रीमद्भगवद्गीता के अनुसार पुण्य और पाप क्या है -यह जानते हुए कि पाप करना गलत है, फिर भी व्यक्ति पाप क्यों करता है? दोस्तों, इस धरती पर शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति हो जिसने अपने जीवन में कभी कोई पाप न किया हो। उसने जाने-अनजाने में कोई न कोई ऐसा काम जरूर किया होगा जो पाप … Read more

सनातन धर्म के रक्षक: महाराज विक्रमादित्य | Protector of Sanatan Dharma: Maharaj Vikramaditya in hindi

सनातन धर्म के रक्षक: महाराज विक्रमादित्य

सनातन धर्म के रक्षक सनातन धर्म के रक्षक-भारत को सोने की चिड़िया बनाने वाला “असली राजा” कौन था? कौन था वह राजा? जिसके राजगद्दी पर बैठने के बाद, उनके श्रीमुख से देववाणी ही निकलती थी और देववाणी से ही न्याय होता था? कौन था वह राजा? जिसके राज्य में अधर्म का संपूर्ण नाश हो गया … Read more

error: